कुछ तो है हमारे दरमियॉ

यू ही नहीं फासले भी खूबसूरत लगते हैं

-सुकृति जायसवाल

Advertisements

SAPNEY by SUKRITI JAISWAL

Vese to kyi baar kafi thoughts ae mujhe… pr ye vala thought ka chhor pkd ke mae likhney beth gyi…

Mujhe lga ki ye shayd thoda alg hai… or meri or tumhari trh shayd bohoto ko iski zrurt bhi.

Q k ye na… ROTI KAPDA MAKAAN se zada basic hai… SAPNEY!

Ek newly born baby ko apni mumma ke arms se bichhdney ka dr bhra spna…

5 yrs ki chhoti si bcchi ko apni bdi didi jese bdey hone ka bda sa spna…

One sided lover ko us trf se bhi pyar milney ka cute sa spna

Kisi relationship ko shaadi ke mukaam tk pohochaney ka pyar bhra spna…

Ek din khub bda kaam kr k apne papa ko proud vali smile dene ka armaan bhra spna…

Child labours ko school janey ka hk bhra spna…

Us chhoti si kutiya me rehte privar ko… sham me pet bhr khana khaney ka… pyas bhra spna…

India bdl rha h… bdh rha h…ek din sbse agey hoga … ye umeed bhra spna…

Ek chhoti si family, satisfying si job, ek sukun bhri sham me chay ki pyaali… is ka happiness bhra spna

Situation job hi ho… phase jo bhi ho…. Spney dekhna to basic h!

Pr ab agr ap samne beth kr hmari bat sun hi rhe hain… to zra ek jwwab dijie na jnab.. apni us basic need ko pura krne k liye… ap kr kya rhe h?

Kbi spno k adhurey chhootne k karn… nind khrab hui h? ya spno ko pura krne ki planning me… kbi khana chhoota h?

Agr nhi… to mujhe dr h k apki zindgi nayjayaz hai… jis zindgi me spney pura krne ki zid nhi.. kuch hasil krne ka jzba nhi.. khud ki life better krne ka lalach nhi… sch khu to vo zindgi.. zindgi hi nhi hai!

Or agr ha… to Mubarak ho.. apki zindgi k pas zriya hai khushi ka..!

Pr is HAAN vale case me ek or bat h… khi ap apne spney k piche bhagtey hue.. apna present to brbad nhi kr rhe? Ya khi ap us spney k karn selfish ho k kisi or ki duniya tod to nhi kr rhe..?

Ye bat dhyan me rkhiyega jnab.. apke spney apke hk me tbi honge jb unme kisi ki bddua shamil na ho!

Vrna jis spney k liye ap apni nindey udae bethe h.. use pura krne me to puri kaynat apka sath degi..

Or agr kaynat sath de hi rhi h.. to apko krna kya hai?

Khud pe vishwas, khub sari mehnt, sahi smy ka intzar, or fir masterstroke!

Zindgi hme moke bohot deti h.. ap kb taiyar h azmaish k liye… vo apko decide krna h..

Or agr 1-2 spney adhurey chhot bhi jate hain… apke 100% dene k bad bhi..iska mtlb ye blkl bhi nhi h k zindgi waste ho rhi h.. blki is failure mein bhi zindgi ne apkp lessons hi diye h…

Bhrosa rkhiye sahib.. isse bhi khi zada khubsurt spna apka intzar kr rha hoga…

Destiny ne us spne ko ap k liye chunk e rkha hoga…

To ye vala spna tutne k bad.. hm chup ho k har man k nhi bethenge

Blki hm ye dhund

ney ki kosis krenge k hmara nya spna kaha h.. jise hme apna mksd bnana h…

Baki spno k bare me or kya kehna hai … JAB TK SPNEY HAI….TB TK ZINDGI HAI!

मुहब्बत देखी तो नहीं है कभी पर लगता है इनके जैसी ही होगी! -सुकृति जायसवाल

Neela aasman tha Ek airjet jati hui silver lining k sath

Shayd vo muhabbat tha!

Ya fir us aasman ke niche 60 ki speed chlti humari gaadi

Or unka vo bike ride krtey plt plt kr pichli seat pe bethe humey dekhna

Shayd vo muhabbat thi!

Vo mera “feeling of comfort” sirf unke sath hone se

Shayd vo muhabbat ho sakti hai!

Ya fir unka beparwah hmara ladies bag pkd ke confidence se chlna

Shayd vo muhabbat thi!

Muhabbat to hr pl un k face pe vo happiest smile bhi ho sakti hai!

Ya fir unka over confidence se hmara future discuss krna

Shayd vo muhabbat thi!

Dekha jaye to muhabbat to tb bhi thi jb blkl comfort se vo hmari bngla tone copy krne ki unconcious koshish krte rhe!

Unka bdey hk se mera hr bite ka half slice pyaaz chura k khana bhi to muhabbat ho skti hai!

Or muhabbat to tb bhi thi jb vo ekdm hk se hmarey flat k bahr tk hme chhodney ae!

Arey! Or bhi pta nhi kitney instances the jinme shayd muhabbat hi thi!

Hmarey khyal se muhabbat to us purey din k hr ek lmhey me bsi thi Un behti thndi hwao me ghuli thi!

हसि का कारण बोलू

या बोलू कि हसि ही तू है

था मक्सद बस मॉ पापा का गुमान बरकरार रखना

अब मक्सदों में एक वजह भी तू है

किया तू ने मेरी जिन्दगी आबाद

या मेरी जिन्दगी ही तू है

सुकृति जायसवाल

हाँ गईं हैं जानें वीर बाहादुरों की

दशकों से जाती जा रहीं हैं

और ये जो निर्दयी निरा्त्मा ये बेशर्मी भरी हरकतें करतें हैं

इनको इन्हीं के धर्म इन्हीं के वजूद के बारे में कुछ ख़ास जानकारी नहीं होती

हम ये बिल्कुल नहीं कह रहे कि हमारा डिफेंस् कमज़ोर है

या तुम्हारा चैलेंज ऐक्सेप्ट नहीं कर सकता

पर हम तो साफ़ शब्दों में ये कह रहे हैं कि आप! आपकी पैदाइश आपकी सोच और आपके लोग आपके हौसले आपकी पहचान ख़ुद कमज़ोर…. शायद दफ्न है कहीं

ना हमें ख़ुद पर शक् है

ना आपकी नीचता पर कोई ख़ौफ

आपने अपनी बेशर्मी नहीं बल्की कमज़ोरी, हमारे वीरों की जान उस वक्त ले कर प्रदर्शित किया जब वो तैयार तक नहीं थे

क्यूकि आप और आपका जो दफ्न हुआ ज़मीर है वो यह बात बड़ी बारीकी से जानता है कि आप हमारे वीरों से सामने से लड़ने के काबिल नहीं

वरना हमारे जवान आपको उसी मिट्टी में दफ्न कर दें जिससे आपका ज़मीर ऊपर उठना भूल गया है

एक तो सामने से लड़ना आपके गन्दे खून में है नहीं

या शायद अपनी हार का अंदाज़ा आप भी रखते हैं

दूसरे एक छोटी सी दो कौड़ी की विडियो दे कर आप खुद को ताकतवर बता रहे हैं

काश आप और आपके प्यारे साथियों को ये पता होता कि आपकी असली औकात ही यही है…. चुपके से घुसना, चोरी से मारना!

खैर छोड़िये!

जो खुदा का बंदा ही ना हो…. उसमे जिगर तो होता ही नहीं आत्मसम्मान की क्या कही जाए

इस प्यारे से देश का नागरिक होते हम तो आपसे बस यही कहेंगे कि वार उस दिन करो जब हमारे वीर भी लड़ने की स्तिथी में हों

ये जो आपने हरकत की है

इसे हम अल्लाह के बंदे चोरी और बेवकूफी कहते हैं

हम और हमारे वीरों को मार तो दोगे

फिर हम जैसा दूसरा कहाँ से लाओगे आपको कमज़ोर ज्ञात कराने वाला??

फिर जीवन किससे लड़ने के लिए किसको हराने के लिए जियोगे??

अपने बेगर्ज़ होने का इन्तकाम लिये जा रहे हैं!

बना क्या लिया उन्हें कमजोंरी हमने…उनकी बेपरवाही का इम्तेहान दिये जा रहे हैं!

हम जानते हैं ज़रुरत नहीं उन्हें हमारी… फिर भी उनके ख्वाब पूरा करने को हम खुद को लुटाए जा रहे हैं!

सुकृति जायसवाल

थे शबनमी से हालात

या मरमरी सी रात का कमाल था

उनकी मुहब्बत पसंद आई हमें

या इश्क इधर पहले से छुपा हुआ सा था

-सुकृति जायसवाल